क्या आप लोग महादेवी वर्मा का जीवन परिचय को आसन भाषा में खोज रहे है ? तो ये लेख आपके लिए ही है.

मैं आपको भरोसा दिलाता हु की इस लेख को पढने के बाद आपको आगे महादेवी वर्मा के जीवन परिचय में कोई कन्फ्यूजन नहीं रहेगा.

जब मैं अपने इंटरमीडिएट की पढाई कर रहा था तो मैंने भी बहुत खोजा पर उस टाइम मुझे बताने वाला कोई नही था तो मैंने बहुत सारी बुक्स की मदद से अपनी पढाई की पर आज आपको मैं सबसे सरल शब्दों में इसका जानकरी देने वाला हु.

मेरे प्रिय मित्रो महादेवी वर्मा का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय और उनकी रचनाओ को हम बताएँगे. हम जानेंगी की महादेवी वर्मा के माता - पिता का क्या नाम था.

इसके आलावा हम लोग यह भी जानने की कोशिश करेंगे की महादेवी वर्मा का जन्म कब हुआ था और महादेवी वर्मा का मृत्यु का  हुई थी. 

आप लोगो को मैं Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay Shortcut Mein बताने  वाला हु.  इसे अगार आप अच्छे से पढेंगे तो आपको यही  पर याद  हो जाएगी.

आपको बार - बार Mahadevi Verma Ka Jivan Parichay को रटने की जरूरत नहीं पड़ेगी. मैंने बहुत ही सरल भाषा का प्रयोग करते हुए महादेवी वर्मा का जीवन परिचय हिंदी मैं बताया है.

आपको मैं महादेवी वर्मा का जीवन परीचय के साथ आपको महादेवी वर्मा का साहित्यिक परिचय भी दूंगा. सिर्फ यही नही मैं आपको Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay Aur Unki Kritiyan भी बताऊंगा.

Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay Sahityik Parichay Unki Kritiyan Shortcut Mein
Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay Sahityik Parichay Unki Kritiyan 


इस पोस्ट में हम महादेवी वर्मा का मूल नाम के साथ - साथ महादेवी वर्मा का जन्म कहां हुआ था यह भी जानेंगे. यह कक्षा - 12th में पाँच अंक में पूछे जाते है. आपको इसमें दो खंड में अंक मिलते है.

आपको पहले खंड मतलब mahadevi verma ka jeevan parichay in hindi में लिखने के आपको सिर्फ ३ अंक दिए जाते है और दुसरे खंड मतलब महादेवी वर्मा का साहित्यिक परिचय लिखिए का आपको 2 अंक दिए जाते है.

इसप्रकार आपको दोनों को मिलाकर कुल पाँच अंक मिलते है और यह नम्बर पाना आपके हाथ में है क्योंकि इसका बोर्ड के पेपर में आना तय है. इसलिए अप हमारे इस पोस्ट को पूरा अवश्य पढियेगा.

यह रही 'महादेवी वर्मा का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय और उनकी रचनाएँ' सबसे कम शब्दों में - Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay Sahityik Parichay Unki Kritiyan

दोस्तों चलिए अब हम mahadevi verma ka jeevan parichay sahityik parichay सबसे कम और सरल शब्दों में जान लेते है जोकि याद करने में बहुत ही आसानी होगा.

मैं आपको सबसे पहले जीवन परिचय के बारे में बताऊंगा फिर आपको साहित्यक परिचय बताऊंगा. मैंने इस ब्लॉग पे लगभग सभी लोगो को जीवन परिचय एवं सहियिक परिचय लिख रखे है.

आप लोग उन सबको भी पढ़ सकते है. अगर आप लोग इसका विडियो चाहते है तो आपको हमारे यू ट्यूब चैनल पे इसका विडियो लेक्चर मिल जायेगा.

सिर्फ यही नहीं मैंने वह पे सभी तरह के महत्वपूर्ण विडियो अपलोड कर रखे है जोकि आपके बोर्ड में सर्वोत्तम अंक लाने में सहायक होंगे.

इसे भी पढ़े:

  1. जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय और साहित्यिक परिचय शॉर्टकट में
  2. डॉ वासुदेव शरण अग्रवाल जी का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय, कृतियाँ रचनाये
  3. आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय एवं कृतियाँ
  4. प्रो. जी. सुन्दर रेड्डी का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय एवं कृतियाँ
  5. रामधारी सिंह दिनकर का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय एवं रचनाएँ शॉर्टकट में
  6. हरिशंकर परसाई का जीवन परिचय साहित्यिक परिचय एवं रचनाएँ

चलिए अब हम लोग mahadevi verma ka jeevan parichay kaksha 12 का जान लेते है जोकि सबसे सरल शब्दों में होगा.

महादेवी वर्मा का जीवन परिचय: महादेवी वर्मा का जन्म उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जनपद में सन 1907 ई० में होलिकोत्सव के दिन हुआ था. इनके पिता गोविन्द प्रसाद वर्मा भागलपुर के एक कॉलेज में प्रधानाचार्य और माता हेमरानी विदुषी और धार्मिक स्वभाव की महिला थी. 

इनकी प्रारम्भिक शिक्षा इंदौर में और उच्च शिक्षा प्रयाग में सफल हुई थी. संस्कृत में एम. ए. उत्तीर्ण करने के बाद ये प्रयाग महिला विद्दापीठ में प्राचार्य हो गयी. 

इनका विवाह छोटी आयु में ही हो गया था. इनके पति डॉ थे. इन्होने नारियो की स्वतंत्रता के लिए सदैव संघर्ष किया और अधिकाकारो की रक्षा के लिए नारी का शिक्षित होना आवश्यक बताया. 

ये प्रयाग में ही रह कर जीवनपर्यन्त साहित्य - साधना करती रही. महादेवी वर्मा जी की मृत्यु 11 सितम्बर सन 1987 ई० को हो गयी और ये इस असार - संसार से विदा हो गयी. भले ही आज ये हमारे बिच नहीं है लेकिन इनके गीत काव्य - प्रेमियों के मानस पटल पर सदैव विराजमान रहंगे.

दोस्तों हम लोगो ने महादेवी वर्मा का जीवन परिचय को उपर अच्छे से सबसे सरल भाषा में शार्टकट तरीके से जान लिया है और अब हम महादेवी वर्मा का साहित्यिक परिचय के बारे में सरल तरीके से जानेंगे.

महादेवी वर्मा का साहित्यिक परिचय: छायावाद के चार महान कवियों में महादेवी वर्मा का भी नाम आता है. इन्होने मैट्रिक के बाद ही काव्य रचना शुरू कर डी थी. 

ये दु:खी और पीड़ित व्यक्तियों को प्रेम एवं सहानुभूति से प्रभावित करती रही. महादेवी वर्मा का नारियो के प्रति विशेष दृष्टिकोण एवं भावुकता इनके अन्दर विद्दमान थी. 

महादेवी वर्मा जी ने चाँद नामक पत्रिका का संपादन भी किया है जिसमे उन्हें विशेष प्रसिद्धी प्राप्त हुई. महदेवी वर्मा जी ने नारियो के लिए सदैव संघर्ष किया है. इन्होने नारियो की शिक्षा पर विशेष जोर दिया है. 

इन्होने प्रयागराज में ही रह कर साहित्य साधना की. महादेवी वर्मा जी ने विद्दापीठ में प्राचार्य के पद पर भी कार्य किये है. इनके काव्य , काव्य प्रेमियों के लिए अमृत का कार्य करते थे.

दोस्तों इसी की साथ हमारा महादेवी वार्म का साहित्यिक परिचय भी पूरा होता है. अब हम महादेवी वर्मा जी का कृतियाँ अथवा रचनाये के बारे में जानेंगे. 

आपको Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay Shortcut Mein मैंने बता ही दिया है जिसे आप अपने बोर्ड एग्जाम में बिना किसी रूकावट के बड़े आराम से लिख सकते है.

प्यारे स्टूडेंट्स हम लोगो ने महादेवी वर्मा जी का जीवन पारिचय जान ही लिया है जिसका अगर आपको पीडीऍफ़ चाहिए या आपको इसका वडियो लेक्चर चाहिए तो आप हमारे चैनल पे जा सकते है.

मैंने आपको जीवन परिचय के साथ - साथ Mahadevi Verma Ka Sahityik Parichay भी अच्छे से सरल भाषा में बता दिया है. अब हम लोग इनके कृतियाँ के बारे में जानेंगे.

आपको बोर्ड एग्जाम में यह तीनो चीज लिखने होंगे सबसे पहले आप जीवन परिचय लिखेंगे फिर साहित्यिक परिचय और फिर जाके आप इनके रचनाये लिख देंगे. 

हम अभी तक Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay Sahityik Parichay जान चुके है. चलिए अब हम लोग बचा हुआ एक स्टेप और जान लेते है और इस लेख को समाप्त करते है.

महादेवी वर्मा जी की कृतियाँ (रचनाये): महादेवी वर्मा जी की रचनाएँ निम्न है -

  • काव्य: नीहार, रश्मि, नीरजा, सांध्यगीत, दीपशिखा यामा आदि.
  • संस्मरण एवं रेखाचित्र: पथ के माथी, अतीत के चलचित्र, स्मृति की रेखाएं, मेरा परिवार आदि.
  • निबन्ध संग्रह: श्रृंखला की कड़ियाँ' इनके नारी सम्बन्धी निबन्धों का संकलन है.
प्यारे स्टूडेंट्स इसी की साथ हम लोगो का आज का यह लेख समाप्त होता है. हम लोगो नए काफी अच्छे से सरल शब्दों का चयन करके आपके लिए यह लेख लिखे है. आप लोग ऐसे ही और लेख पाने के लिए इस ब्लॉग पर रोज आया कीजिये.

मैंने आप लोगो ओ को आज "महादेवी वर्मा का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय और उनकी रचनाएँ"  को समझा दिया है. आप सभी लोग अपने सभी मित्रो के पास भी शेयर जरुर कीजियेगा. आप लोग अपने बोर्ड एग्जाम में 'Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay Sahityik Parichay Unki Kritiyan Shortcut Mein' जरुर लिखे.